Home / उत्तराखंड / चमोली / 2013 की आपदा के बाद से दुनिया के लिए उर्गम घाटी बनी है दुर्गम – जोशीमठ

2013 की आपदा के बाद से दुनिया के लिए उर्गम घाटी बनी है दुर्गम – जोशीमठ

नवीन भंडारी जोशीमठ ऊर्मग घाटी ,,,,, 

कड़कड़ाती सर्दी और जीरो डिग्री तापमान में कैसे जान जोखिम में डाल कर एक सीढ़ी के सहारे कल्प गंगा को पार करते जोशीमठ विकास खंड की जैवविवधता के लिये मशहुर उर्गम घाटी के लोग, आप इन तस्वीरों में साफ देख सकते है की जोशीमठ की इस उरगम घाटी के अरोसी,भेंटा भर्की सहित दर्जन भर गाँवों के ग्रामीण कैसे आज भी मुसीबत की जिंदगी जीने को मजबुर है, 2013 की आपदा के बाद से दुनिया के लिए उर्गम घाटी बनी है दुर्गम, 

जोशीमठ जहां एक तरफ भीषण सर्दी का सितम है वही जोशीमठ के उर्गम घाटी में जान जोखिम में डालकर जरूरी कामों से नदी पार करने को मजबूर है यहां नदी के ऊपर का पुल 2013 में बह गया था और आज तक नहीं बन पाया है लेकिन यहां की तस्वीरें हर किसी को डरा देने वाली आ रही है लोग नदी तक सीढ़ी के साहारे ओर नदी को कच्चे फूल के सहारे पार कर जैसे-तैसे अपने काम के लिए जोशीमठ की तरफ आ रहे हैं मजबूरी में ही सही लेकिन जरा सी चूक बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकता है तस्वीरों में देख सकते हैं किस तरह पहाड़ी से सीढ़ी से नीचे उतर रहे हैं और नदी को एक कच्चे पुल जो कि गांव वालों ने बनाया है उसके सहारे पारकर जरूरी कामों से जोशीमठ की तरफ आ रहे हैं 2013 की आपदा के बाद से न जाने कितने ऐसे पुल बह गए थे लेकिन आज भी जोशीमठ की उर्गम घाटी दुनिया के लिए दुर्गम बनी हुई है जिसमें दर्जनों गांव के लोग जान जोखिम में डालकर चलने को मजबूर है |

यहाँ देखें वीडियो न्यूज़ 👇👇👇👇

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

हंस फाउंडेशन दे रहा है जोशीमठ के सभी गांव में अपनी सेवा

हंस फाउंडेशन हेल्प एज संस्था आज से अपनी पूर्ण सेवा जोशीमठ के सभी गांव में …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *