Home / राजस्थान / सवाई माधोपुर / 21वीं सदी में अक्षय तृतीया पर शोक मनाने की परंपरा चौथ का बरवाड़ा

21वीं सदी में अक्षय तृतीया पर शोक मनाने की परंपरा चौथ का बरवाड़ा

21वीं सदी में शोक मनाने की परंपरा चौथ का बरवाड़ा
संपूर्ण देश में आज का अक्षय तृतीया का दिन शादी विवाह व मांगलिक कार्यों के लिए शुभ माना जाता है लेकिन लॉक डाउन को लेकर परेशानी बनी हुई है परंतु चौथ का बरवाड़ा तथा उसके आसपास के 18 गांवों में अक्षय तृतीया पर शोक मनाने की परंपरा सालों से चली आ रही है! जिस दिन देश में सबसे ज्यादा शादी विवाह होते हैं वहीं इस क्षेत्र में सन्नाटा छाया रहता है आज के दिन मंदिरों में घंटियां नहीं बजती है लोग इस दिन घरों में सब्जियां तक नहीं बनाते हैं !अक्षय तृतीया पर इस क्षेत्र में शोक मनाने की परंपरा ऐतिहासिक घटनाओं पर आधारित है इस विषय पर इतिहास के जानकार व पेंशनर समाज के अध्यक्ष शरीफ अहमद से इस विषय पर जानकारी दी
संवाददाता राजेंद्र प्रसाद
देखें विडियो ????

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई

महात्मा ज्योति राव फूले की पुण्यतिथि मनाई है  गंगापुर सिटी  सूरसागर गंगापुर सिटी स्थित माली …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *