Home / उत्तराखंड / चमोली / जिला पंचायत चमोली की बैठक में विभागीय योजनाओं एवं मूलभूत समस्याओं पर चर्चा-चमोली

जिला पंचायत चमोली की बैठक में विभागीय योजनाओं एवं मूलभूत समस्याओं पर चर्चा-चमोली

जिला पंचायत अध्यक्षा रजनी भण्डारी की अध्यक्षता में बुधवार को जिला पंचायत चमोली की बैठक में विभागीय योजनाओं एवं मूलभूत समस्याओं पर गहनता से चर्चा हुई। इस दौरान जिला पंचायत सदस्यों ने अपने क्षेत्रों की समस्याओं को प्रमुखता से उठाया। वही विभागीय अधिकारियों ने जनपद में संचालित योजनाओं की जानकारी देते हुए सम्मानित सदस्यों को योजनाओं की प्रगति से अवगत कराया। इस दौरान जिला पंचायत सदस्यों ने जम्बू कश्मीर में लापता चमोली जनपद के जवान राजेन्द्र सिंह नेगी को सकुशल खोजने के सार्थक प्रयास करने तथा अन्य 11 सूत्री मांगों को पूरा करने हेतु प्रभारी जिलाधिकारी हंसादत्त पांडे के माध्यम से शासन को ज्ञापन भी दिया।

जिला पंचायत अध्यक्षा रजनी भंडारी ने सभी सदस्यों एवं अधिकारियों को बेहतर तालमेल व ईमानदारी के साथ जिले के विकास हेतु कार्य करने की बात कही। उन्होंने जरूरतमंद लोगों तक विकास योजनाओं को पहुॅचाने पर जोर दिया। बैठक में मा0 सदस्यों ने सड़क, पेयजल, शिक्षा, स्वास्थ्य, जंगली जानवरों से सुरक्षा से जुडी समस्याओं को प्रमुखता से उठाया। इस दौरान पोखरी-हापला मोटर मार्ग को जल्द खोलने, धुनारघाट-वाटाधार मोटर मार्ग सुधारीकरण, खेता मोटर मार्ग पर काजवे, नाली व डामरीकरण न होने, थराली-देवाल मोटर मार्ग सुधारीकरण सहित पीएमजीएसवाई की मासौं मोटर मार्ग एवं अन्य सड़कों के निर्माण से प्रभावित काश्तकारों को मुआवजा न दिए जाने की समस्याएं प्रमुखता से रखी गई। मुआवजा न मिलने की समस्या पर पीएमजीएसवाई के अधिशासी अभियंता ने बताया कि प्रभावित काश्तकारों में मुआवजा वितरण हेतु 8 करोड़ की धनराशि स्वीकृत है, जिसमें से अभी तक शासन से 1.5 करोड़ धनराशि ही आवंटित हुई जो कुछ प्रभावितों में वितरित की जा चुकी है और अवशेष धनराशि मिलने पर शीघ्र ही मुआवजा वितरण किया जाएगा। जल संस्थान व जल निगम की समीक्षा के दौरान थराली-कुराड पेयजल पर शीघ्र कार्य शुरू कराने, नारायणबगड में नलों में गंदा पानी आने, सोनला व बछुवावाण में पेयजल आपूर्ति सुचारू न होने आदि समस्या भी सदन में रखी गई। क्षेत्र पंचायत देवाल प्रमुख ने स्रोत पर पानी न होने के बावजूद घेस पेयजल योजना का निर्माण किए जाने का मुद्वा उठाया। बैठक में जल निगम के एचओडी के उपस्थित न रहने पर जिला पंचायत अध्यक्ष ने नाराजगी जताई। जिस पर मुख्य विकास अधिकारी ने जल निगम के एचओडी से स्पष्टीकरण तलब किया है।

मा0 अध्यक्ष एवं सदस्यों ने चमोली जनपद में जंगली जानवरों से फसलों एवं इंसानों की सुरक्षा का मुद्दा भी प्रमुखता से उठाया तथा भालू, सुअर व बंदरों से निजात दिलाने पर जोर दिया। जिस पर डीएफओ ने बताया कि जंगली सुअरों को मारने के लिए शासन ने अनुमति दे रखी है, जबकि बंदरों को पकडकर उनका बांधियाकरण किया जा रहा है। वही भालू को जंगलों की ओर भगाने के लिए भी वन विभाग की टीम कार्य कर रही है। सदन में विद्यालयों में शिक्षकों की कमी तथा जीर्णर्शीण विद्यालय भवनों की मरम्मत करने की मांग भी रखी गई। जिस पर जिला शिक्षा अधिकारी ने सदन को जानकारी दी की जिले में प्रवक्ता के 1138 पदों में 432 पद रिक्त चल रहे है। इन रिक्त पदों पर सुप्रीम कोर्ट ने गेस्ट टीचरों को रखने हेतु हरी झंडी दे दी है और इस पर शासन स्तर से कार्यवाही की जा रही है। इसके अलावा जिला योजना से जीर्णर्शीण विद्यालय भवनों की मरम्मत का कार्य किया जा रहा है। मा0 सदस्यों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों मे महिला चिकित्सक की तैनाती करने, चिकित्सकों की कमी तथा थराली अस्पताल में साफ-सफाई न होने की समस्या भी रखी। वही सदन में विगत दैवीय आपदा से प्रभावित झलिया व कुलिंग गांवों के विस्थापन और फल्दिया व पदमल्ला में क्षतिग्रस्त रास्तों के शीघ्र निर्माण करने पर भी जोर दिया गया।

बैठक में मनरेगा के तहत गांवो में बडे व अच्छे कार्य कराने पर भी चर्चा की गई। वही उद्यान के माध्यम से नर्सरी व जड़ी बूटियां के क्लस्टर तैयार करने पर चर्चा की गई। इस दौरान विद्युत, उरेडा, सिंचाई, समाज कल्याण, पर्यटन, उद्योग आदि विभागों की विकास योजनाओं की जानकारी भी सदन में रखी गई तथा समाज कल्याण के माध्यम से गांव-गांव में शिविर लगाकर दिब्यांगजनों की पेंशन लगाने हेतु ठोस कदम उठाने पर जोर दिया गया।

इस अवसर पर जिप सदस्य नंदिता रावत, आशा धपोला, पूजा देवी, ममता देवी, लक्ष्मी कठैत, आशा देवी, दीपा देवी, देवी जोशी, अनिल, अवतार सिंह पुडीर, विनोद नेगी, विक्रम वत्र्वाल, लक्ष्मण सिंह बिष्ट, अनूप चंद, योगेन्द्र सेमवाल, मंजू कठैत, कृष्णा बिष्ट आदि सहित क्षेत्र पंचायतों के प्रमुख एवं समस्त जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

नवीन भंडारी चमोली

Support us

कोई भी मीडिया हो उन्हें कभी फंड की चिंता नहीं करनी पड़ती क्यूंकि लोकतंत्र को बचाने के नाम पर उन्हें विभिन्न स्रोतों से पैसा मिलता है। लेकिन हमें सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आपसे जितना हो सके हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Donate with

Check Also

हंस फाउंडेशन दे रहा है जोशीमठ के सभी गांव में अपनी सेवा

हंस फाउंडेशन हेल्प एज संस्था आज से अपनी पूर्ण सेवा जोशीमठ के सभी गांव में …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *