Breaking News
Home / देश / LAC पार कर चीन में घुसी थी भारतीय सेना, तनाव दूर करने का काम हमारा नहीं : चीन के राजदूत

LAC पार कर चीन में घुसी थी भारतीय सेना, तनाव दूर करने का काम हमारा नहीं : चीन के राजदूत

LAC पार कर चीन में घुसी थी भारतीय सेना, तनाव दूर करने का काम हमारा नहीं : चीन के राजदूत

LAC news update : भारत में चीन के राजदूत सुन वेइडोंग (Sun Weidong) ने लद्दाख में स्थित गलवान वैली (Galwan Valley) में हुए संघर्ष का ठीकरा भारत पर फोड़ा है। वेइडोंग ने भारतीय सेना पर आरोप मढ़ते हुए कहा कि उसने LAC क्रॉस कर चीनी बॉर्डर दस्ते पर पहले हमला किया था। यह उकसावे वाली कार्रवाई थी, जिसे भारत को रोकना चाहिए।

लद्दाख में स्थित गलवान घाटी (Galwan valley) में सीमा विवाद को लेकर भारत और चीन आमने-सामने हैं। हाल ही में चीनी सैनिकों ने वहां घुसपैठ की थी। दोनों सेनाओं के बीच गलवान घाटी में 15 जून को हुई हिंसक झड़प में एक कर्नल सहित 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। इसके बाद से दोनों देशों में तनाव बढ़ गया है। इस बीच भारत में चीन के राजदूत लद्दाख में स्थित गलवान घाटी (Galwan valley) में सीमा विवाद को लेकर भारत और चीन आमने-सामने हैं। हाल ही में चीनी सैनिकों ने वहां घुसपैठ की थी। दोनों सेनाओं के बीच गलवान घाटी में 15 जून को हुई हिंसक झड़प में एक कर्नल सहित 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। इसके बाद से दोनों देशों में तनाव बढ़ गया है। इस बीच भारत में चीन के राजदूत सुन वेइडोंग (Sun Weidong) से जब यह पूछा गया कि मौजूदा विवाद का हल कैसे हो, तो उन्होंने यह कहकर टेंशन और बढ़ा दी है कि ‘इसका दायित्व चीन पर नहीं है।’

वेइडोंग ने भारतीय सेना पर उलटा आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय सेना ने LAC (लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल) पार की थी और चीन के बॉर्डर की रखवाली करने वाले दस्ते पर हमला बोला था। भारतीय सेना ने ही दोनों देशों के बीच तय अग्रीमेंट को तोड़ा है। हम भारत से अपील करते हैं कि वह इसकी जांच कराए। भारत सरकार यह विश्वास दिलाए कि यह उकसावे वाली कार्रवाई फिर नहीं होगी। वेइडोंग ने समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में यह बात कही।

वेइडोंग ने कहा कि दोनों देशों के बीच आशंका और टकराव का रास्ता गलत है और यह दोनों की लोगों की उम्मीद के विपरीत है। चीन और भारत मतभेदों को सुलझाने के इच्छुक हैं और ऐसा करने में सक्षम हैं। उन्होंने कहा हमें यह उम्मीद है कि भारतीय और चीनी पक्ष सीमा स्थिति को और जटिल बनाने से बचेंगे और इसी अनुरूप काम करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि भारत द्वारा उठाए गए कदम विभिन्न द्विपक्षीय समझौतों की भावनाओं के अनुरूप नहीं हैं।

वेइडोंग ने यहां पूरी कूटनीति इस्तेमाल करते हुए पहले सारे मामले का आरोप भारतीय सेना पर मढ़ दिया और इसके बाद इसके शांतिपूर्ण हल की बात कही है। उन्होंने कहा कि आपसी सम्मान और समर्थन निश्चित रूप से दोनों देशों के दीर्घकालिक हित में है। चीन, सीमा पर शांति और स्थिरता को बनाए रखने और संबंधों के सतत विकास के लिए भारत के साथ मिलकर काम करने को तैयार है। उन्होंने कहा, ‘इस समय भारत चीन सीमा पर कुल मिलाकर स्थिति स्थिर और नियंत्रण में है।

Check Also

पत्रकार के समस्यायों के निस्तारण के लिए आज एक साथ भारत के प्रमुख ट्रेड यूनियन

देश की तीनों प्रमुख संगठन पत्रकारों की उठाएगी आवाज़, बीएमएस ने दिया समर्थन लखनऊ :- …